हाथों की लकीरें

(PIC COURTESY Freedigital.net)

 

हाथों की चन्द लकीरें मेरी ज़िंदगी का आइना हैं।

कुछ दबी सी कुछ लम्बी गहरी, यक़ीनन कुछ तो इन सबका मायना है।

कल ही कहा किसी ने ज़िंदगी बहुत अछी जाएगी।

हर दुःख की घड़ी बस यूँ ही देखते गुज़र जाएगी।

उम्र लम्बी शानो शौक़त और पैसे की भरमार होगी।

मैं यूँ ही सोचता रहा मिला के अपने दोनो हाथ।

क्या पता था उनको मैं क्या और क्या हैं मेरे हालात।

फिर ना जाने क्यूँ मेरे दिल के तार बजने लगे।

वापिस उसी की राह में दिन रात कटने लगे।

ज़िंदगी बद से बदतर हो चली थी बिन किए गुनाहों से।

काँटे बिछा दिए शायद किसी ने उठा के फूल मेरी राहों से।

ज़िंदगी बस यूँ ही गुज़र गयी शानो शौक़त आने में।

ना आना था ना वो आयी कहाँ फ़ुरसत थी उसे ज़माने में।

आज भी जब वो चेहरा रात के अंधेरे में नज़र आता है।

मेरी आँखों में हाथों की लकीरों का जाल सा उभर आता है।

कुछ और लकीरें उभर आयी हैं उन पुरानी लकीरों को काटकर।

शायद मुझे एहसास दिलाने को कि लकीरें तो बदलती रहती हैं उम्र भर।

इरादा गर कुछ कर गुज़रने का हो इंसान का।

hand

Advertisements

17 thoughts on “हाथों की लकीरें

  1. This is damn inspirational… I loved the last bit… irada gar insaan ka ho kuch kar guzarne ka….. Parveen ji, you are making me fall for urdu again,..

    Like

  2. Very nicely explained .. Though I myself do believe in this hath ki lakeer n all.. I still remember. Wen I was a hardly 7 or8 years old , an astrologer came at home n I with my whole evergreen spunky nature went to him n asked.. Pandit g.. I want to be a doctor.. Will I be??
    He said .. “Beta u ll work in the field ‘jaha lakshmi niwaas karti hai'” ..
    And I asked very sadly again.. I won’t be a doc then.. N he said .. U can be.. If u ll study hard..
    That time I dint even know lakshmi kaha niwaas karti hai.. Never ever thought to be a banker ..life and destiny brings u where u belong too…
    But I just hope, I would not have met that person who made me firmly believe that I can not do anything else once I joined here…
    Could have done better , I guess !!

    Liked by 1 person

  3. Wow such a beautiful poem, with deepest secret of life, pain and hope.

    Poem is good doubt, but life taking a toll in expression.

    Just go deep with in you .

    You will find pain is illusion.

    Being in eternal happiness is your true nature. No matter what is happening outside .

    At the end of the king and begger both on in same que .

    Things will be ok soon.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s